Adsense


 

--डिजिटल आणि सूक्ष्म श्रावण यंत्रांसाठी विश्वसनीय ठिकाण म्हणजे 'व्हिआर हीअरिंग'.. अधिक माहितीसाठी संपर्क :- 9657 588 677 @ www.vrhearingclinic.in






खुद को प्यार करना हमारे जीवन की संजीवनी है। इसके बाद ही आप खुले दिल से किसी और को प्यार करने में सक्षम हो पाएंगी। इस वैलेंटाइन-डे पर आइए सीखें खुद से प्यार करने के गुर, बता रही हैं किरण मिश्रा
एक दिन के 24 घंटे। ऑफिस व घर के काम में पूरा दिन बीत गया। रात में सोते हुए भी मन में यही गुणा-भाग कि कल क्या-क्या करना है? पर सवाल यह कि रात-दिन की इस भागदौड़ के बावजूद आप खुश क्यों नहीं हैं? इसलिए कि आपकी परवाह कोई नहीं कर रहा? बेहतर है, इससे पहले स्वयं से पूछें कि आपने खुद के लिए कितना समय निकाला? उत्तर में शायद निराशा ही हाथ लगे, क्योंकि इस सवाल का जवाब आपके पास नहीं है। होगा भी कैसे? आप तो हमेशा खुद को आखिर में ही रखती आई हैं। आपके साथ ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि आप खुद को प्यार करना नहीं जानतीं। पहले खुद से प्यार करो, यह सिर्फ कहने की बात नहीं है, सभी लाइफकोच इसे खुशहाल जिंदगी जीने का एक बेहद खूबसूरत रास्ता मानते हैं।



प्यार पाने के लिए खुद से प्यार
मुझसे लोग प्यार नहीं करते, क्योंकि मैं सुंदर नहीं दिखती। मेरा रंग काला है... इस तरह की बातों से हमेशा खुद को कम आंकना या हर समय अपनी आलोचना करना बताता है कि आप स्वयं को प्यार नहीं करतीं। इस तरह की आलोचना करके आप अपनी कमी को ही उजागर नहीं कर रहीं, बल्कि अपने मनोबल को कमजोर कर रही हैं और अपनी सोच में नकारात्मकता को बढ़ावा दे रही हैं। विशेषज्ञ भी मानते हैं कि जब हम खुद की आलोचना करते हैं या हर समय नकारात्मक सोचते हैं, तो हमारेशरीर में तनाव बढ़ाने वाले हार्मोंस का स्राव होता है और आप और ज्यादा तनावग्रस्त हो जाती हैं। पर खुद को प्यार करने का मतलब यह कतई नहीं है कि आप स्वार्थी बन जाएं। यहां तो बात खुद के ख्याल की है। स्वयं के मनोबल को बढ़ाने का यह बेहतर तरीका है। अगर आप चाहती हैं कि लोग आपकी तरफ आकर्षित हों या आपके अस्तित्व को समझें, तो पहले खुद को प्यार करना सीखिए।

खुश रहना है तो...
जो प्यार आप अपने परिवार को दे रही हैं, बदले में जब उतना ही प्यार नहीं मिलता होगा, तो दुख लगना स्वाभाविक है। पर खुद की अनदेखी तो आप स्वयं कर रही हैं, फिर दूसरे तो करेंगे ही। खुद को खुश रखिए। मन को मारकर हर वक्त दूसरों के लिए करते रहने से एक हीनभावना आ जाती है। जब आप खुश रहेंगी, तभी आप हर रिश्ते में खुशी का रंग भर पाएंगी। 
खुद पर भरोसा भी है जरूरी
खुद पर भरोसा करने का मतलब है, अपने आत्मविश्वास को बढ़ाना। आत्मविश्वास होगा तो गलतियां भी कम होंगी। कोई गलती होती भी है, तो धैर्य रखें और उन गलतियों से सीख लेकर अगली बार बेहतर करने की कोशिश करें। खुद का भरोसा ही है कि एक चींटी अपने वजन से दस गुना भार लेकर अपनी मंजिल की तरफ बढ़ जाती है।



क्या है आपकी पहचान
खुद से प्यार करने का एक मतलब यह भी है कि आप जैसी भी हैं, उसी रूप में खुद को स्वीकारें। दुनिया में सुंदर लोगों की कमी नहीं है, लेकिन इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि आप अपनी तुलना उनसे करें। सुंदरता के मायने केवल शारीरिक सुंदरता ही नहीं होता, इसमें आपकी स्मार्टनेस, जानकारी, सोच वगैरह कई चीजें होती हैं। अपने व्यक्तित्व में संतुलन लाएं। इससे आत्मविश्वास बढ़ता है। किसी को अपना आदर्श जरूर बनाएं, मगर दूसरों की नकल करने की बजाय अपनी एक अलग पहचान बनाएं।
खुद को भी कहें ‘गुड मॉर्निंग’ 
सुबह उठते ही दूसरों से तो ‘गुडमॉर्निंग’ बोलती ही होंगी, पर क्या कभी खुद को ‘गुडमॉर्निंग’ बोला है! ऐसा तो कभी नहीं हुआ होगा। थके हुए मन से दिन की शुरुआत करने का मतलब अपनी ऊर्जा को कम करना है। ऐसे में कुछ नया करने के बारे में कैसे सोच सकती हैं? तो खुद को रिचार्ज इस तरह करें कि सुबह जब आईना देखें तो चेहरे पर मुस्कान लेकर अपने लिए भी ‘गुडमॉर्निंग’ बोलें, मानो आज आपका दिन सबसे अच्छा है। अपने हर दिन को खास बनाइए।

आपकी खाने-पीने की आदतें
जो लोग खुद से प्यार करना जानते हैं, वो शारीरिक और मानसिक बीमारियों से भी दूर रहते हैं। ऐसा इसलिए हो पाता है, क्योंकि वे बेहतर स्वास्थ्य के साथ अपने काम पर ज्यादा ध्यान दे पाते हैं। ये शरीर आप ही का है। इसका ध्यान रखने की जिम्मेदारी भी आपकी है। समय पर, सही और संतुलित खाना जितना जरूरी आपके घर वालों के लिए है, उतना ही जरूरी आपके लिए भी है। बचा-खुचा खा लेना, जब टाइम मिले तब खाना; अपने साथ ऐसा करते हुए आपको सोचना चाहिए कि आपका शरीर कोई कूड़ादान नहीं है, जिसके अंदर कुछ भी डाल दिया जाए। सेहतमंद खाने से समझौता करके खुद को बीमार न बनाएं।



रहें फिट और खूबसूरत भी  
हर उम्र में खुद को फिट रखना या अपने सौंदर्य को बनाए रखना आपकी प्राथमिकता होनी चाहिए। सुंदरता से पॉजिटिव एनर्जी मिलती है। पहनावा, रहन-सहन और खानपान में संतुलन बनाकर आप फिट रह सकती हैं। स्पा लेना, फेशियल करवाना, मेडिटेशन और योगा करना, ये सब भी जरूरी है। इसके लिए टाइम मैनेजमेंट सीखें। 24 घंटे में कुछ वक्त खुद के लिए निकालना, खुद को उपहार देने जैसा है। ऐसा हर रोज कीजिए। 
खुद को अपडेट करती रहें
सीखना किसी भी उम्र में कम न करें। यह आपके खुद के विकास के लिए जरूरी है। यू-ट्यूब से कुछ नई चीजें सीखना, मोटिवेशनल चीजों को पढ़ना या सुनना, नए कोर्सेज करना, टेक्नोलॉजी की नई बातें जानना, देश-दुनिया की खबरों से जुड़े रहना, ये सारी चीजें आपको बेहतर बने रहने में मदद करती हैं। अगर आप ऐसा कर पाती हैं, तो लोग भी आपकी कद्र करना सीख जाते हैं।

सोशल मीडिया से प्रभावित न हों
कई बार ऐसा हुआ होगा कि फेसबुक या इंस्टाग्राम पर दोस्तों का हाल जानने के बाद आप खुद को लेकर तनाव में आ गई होंगी। शोधों में भी यह बात साबित हुई है कि सोशल मीडिया डिप्रेशन भी बढ़ाता है। दरअसल हमें सोशल मीडिया पर दूसरों से अपनी तुलना करने से बचना चाहिए। आपकी यात्रा आपकी अपनी है। फोकस होकर जब आप अपने रास्ते पर बढ़ेंगी, तो जीवन अपने आप सरल होता जाएगा।
करें खुद की हौसला अफजाई 
खुद से प्यार करने वाले खुद को अपनी क्षमताओं और कमियों के साथ स्वीकार करते हैं। बिल्कुल जिगरी दोस्त की तरह। निराशा के क्षणों में खुद से ऐसा ही व्यवहार कीजिए, जैसे आप दूसरों को ढाढस बंधाने के लिए करती हैं। जैसे कभी किसी सहेली या किसी सहकर्मी की कमियों को जानते हुए भी आपने उसका हौसला बढ़ाया था, वैसे ही खुद का भी हौसला बढ़ाने की आदत डाल लें।


खुद से खुद की ड्रीम डेट 
आपकी इच्छा जरूर होती होगी किसी पसंद की जगह पर जाने की या फिर कुछ ऐसा मनपसंद करने की। तो इस वैलेंटाइन डे पर उस ड्रीम डेट को पूरा कीजिए। इस दिन अपनी पसंद को प्राथमिकता दें। जो स्टाइल आप चाहती हैं, उसे अपनाएं। अपनी पसंद के गेटअप में जब आप होंगी, तो इससे ज्यादा आत्मविश्वास आएगा।



खुद को प्यार करना क्यों है जरूरी ?
किसी ने सच ही कहा है कि यदि आप स्वयं से प्रेम नहीं करते हैं, तो आप दूसरों से प्यार नहीं कर सकते।  अपने आपको प्यार करना स्वयं के विकास में निवेश करने जैसा है। आप ही हैं, जो अपने जीवन की दिशा को तय कर सकती हैं, यानी खुद ही यह तय कर सकती हैं कि आपको क्या करना है। अपनी भावनाओं, रिश्तों और बाकी व्यावहारिक जिंदगी के लिए दूसरों पर निर्भर रहने से हीनभावना बढ़ सकती है। कम से कम अपनी जिंदगी की लगाम खुद के हाथ में रखने का गर्व आपके चेहरे पर दमकेगा। यह आत्मविश्वास आपको हर दिन वैलेंटाइन डे जैसा रूमानी बना देगा।

टिप्पणी पोस्ट करा

Previous Post Next Post