Adsense


 

--डिजिटल आणि सूक्ष्म श्रावण यंत्रांसाठी विश्वसनीय ठिकाण म्हणजे 'व्हिआर हीअरिंग'.. अधिक माहितीसाठी संपर्क :- 9657 588 677 @ www.vrhearingclinic.in




ICU Full Form in Hindi, ICU Full Form, आईसीयू की फुल फॉर्म इन हिंदी, दोस्तों क्या आपको पता है ICU की full form क्या है, ICU का क्या मतलब होता है, ICU के क्या कार्य होते है, और ICU की विशेषताएँ क्या है,अगर आपका answer नहीं है तो आपको उदास होने की कोई जरुरत नहीं है क्योंकि आज हम इस post में आपको ICU की पूरी जानकारी हिंदी भाषा में देने जा रहे है तो फ्रेंड्स ICU Full Form in Hindi में और ICU की पूरी history जानने के लिए इस post को लास्ट तक पढ़े।

ICU की फुल फॉर्म “Intensive Care Unit” होती है, हिंदी भाषा में इसे “गहन चिकित्सा विभाग” कहते है. दोस्तों ICU प्रत्येक Hospital में मौजूद रहता है, ICU Hospital के एक अलग विभाग को कहा जाता है. यह विभाग मरीज को “Intensive Treatment Medicine” provide कराने का काम कराता है. एक ICU चिकित्सा के अत्याधुनिक उपकरणों से परिपूर्ण रहता है।


ICU hospital के एक विशेष department को कहा जाता है यह मरीजों के लिए गहन देखभाल और medicines प्रदान करता है, Intensive Care Unit(ICU) का काम मरीजों की सबसे गंभीर और भयंकर वाली बीमारियों और चोटों का इलाज करना हैं, जिन्हें हॉस्पिटल में विशेष doctors और nurses द्वारा निरंतर और करीबी निगरानी की आवश्यकता होती है, आवश्यक हो तो इमरजेंसी department से सीधे ICU में मरीजों को स्थानांतरित किया जा सकता है. यह काम आमतौर पर तब किया जाता है जब रोगी की स्थिति लगातार बिगड़ जाती है।

ICU के उपकरण
Ventilator − इस मशीन तब इस्तेमाल में लाया जाता है जब मरीज सांस लेने लायक भी नहीं होता है।

Feeding Tube − इस मशीन का use patients के शरीर में खाना पहुँचाने और निकालने के लिए किया जाता है।

EEG Box − इस उपकरण का उपयोग doctors आई.सी.यू में patient के रोग के बारे में एक से ज्यादा जानकारी लेने के लिए करते है।

Pulse oximeter − इस मशीन से रोगी के खून में oxigin level को मापा जाता है, दोस्तों इस मशीन को मरीज की ऊँगलीयों में लगा दिया जाता है ।

Dialysis − इस मशीन का उपयोग मरीज की body से blood निकलकर उसे साफ करके पुन: उसके शरीर में प्रविष्ट करने के लिए किया जाता है ।




ICU का फुल फॉर्म Intensive Care Unit है, यह एक गहन देखभाल इकाई, जिसे एक गहन चिकित्सा इकाई या Critical care unit के रूप में भी जाना जाता है. ICU एक अस्पताल या स्वास्थ्य देखभाल सुविधा का एक विशेष विभाग है, जो गहन देखभाल, उपचार, चिकित्सा और चिकित्सा प्रदान करने का काम करता है. ICU एक गंभीर चोट, बीमारी या बीमारी से पीड़ित रोगियों को गहन देखभाल दवाएं और जीवन समर्थन प्रदान करता है. गहन देखभाल Units उन रोगियों की देखभाल करती हैं, जिन्हें विशेष डॉक्टरों और नर्सों की एक टीम द्वारा निरंतर और करीबी निगरानी की आवश्यकता होती है. यह टीम गंभीर रूप से बीमार या गंभीर रूप से घायल रोगियों की देखभाल में प्रशिक्षित है।

जैसा की हम सभी जानते है, जरुरत पड़ने पर मरीजों को Emergency department से सीधे ICU में स्थानांतरित किया जाता है. यह आमतौर पर किया जाता है यदि रोगी की स्थिति लगातार बिगड़ रही है, तब ऐसा किया जाता है. एक ICU विभिन्न चिकित्सा उपकरणों से सुसज्जित है, जैसे; मैकेनिकल वेंटिलेटर, डायलिसिस मशीन, बाहरी पेसमेकर, सिरिंज पंप, इन्फ्यूजन पंप, ईसीजी (Electrocardiogram), डिफिब्रिलेटर, एनेस्थीसिया मशीन, ब्लड वार्मर, रोगी मॉनिटर, फीडिंग ट्यूब, सिस्ट ट्यूब आदि कुछ प्रमुख चोटों और बीमारियों के लिए विशेष उपचार की आवश्यकता होती है. दिल का दौरा, अत्यधिक निम्न रक्तचाप, अस्थमा या जटिल निमोनिया के कारण श्वसन प्रणाली में समस्या, आकस्मिक मामलों में बड़ी सर्जरी की आवश्यकता होती है, जिसमें बड़ी सर्जरी और कोमा में रोगियों, लिवर की समस्याओं और गुर्दे की विफलता के मामलों में डायलिसिस की आवश्यकता होती है, एक बड़ी सर्जरी।

उन शिशुओं के लिए एक विशेष आईसीयू है जो समय से पहले पैदा हुए हैं, या गंभीर बीमारी के साथ पैदा हुए हैं. इसे नवजात गहन देखभाल इकाई (NICU) कहा जाता है।

ICU को गहन चिकित्सा इकाई या गहन उपचार इकाई (ITU) या क्रिटिकल केयर यूनिट (CCU) के रूप में भी जाना जाता है. आईसीयू के पहले चिकित्सक पीटर सफार थे।

ICU से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारी
ICU का use सिर्फ गंभीर रूप से घायल मरीज़ों के लिये ही किया जाता है, जैसा की हम जानते है, साधारण बीमारी वालो मरीज़ों को इसमे नही रखा जाता है .

हर बड़े अस्पताल में लगभग 20-30% तक ICU बेड होते है

अगर किसी व्यक्ति का कोई बड़ा ऑपरेशन या सर्जरी होती है तो डॉक्टर्स उसे ICU Ward में रखते है .

किसी व्यक्ति को दिल का दौरा आने पर उसे भी ICU में रखा जाता है .

यह एक गहन देखभाल इकाई है, जिसे एक गहन चिकित्सा इकाई या क्रिटिकल केयर यूनिट के रूप में भी जाना जाता है. यह एक अस्पताल या स्वास्थ्य देखभाल सुविधा का एक विशेष विभाग है जो गहन चिकित्सा, उपचार, चिकित्सा और चिकित्सा प्रदान करता है. गहन देखभाल इकाइयां सबसे गंभीर और जीवन-धमकी वाली चोटों या बीमारी वाले रोगियों को देखती हैं, जिन्हें विशेष डॉक्टरों और नर्सों की एक टीम द्वारा निरंतर और करीबी निगरानी की आवश्यकता होती है. यह टीम गंभीर रूप से बीमार या गंभीर रूप से घायल रोगियों की देखभाल में प्रशिक्षित है. आवश्यकता होने पर मरीजों को सीधे आपातकालीन विभाग से आईसीयू में स्थानांतरित किया जा सकता है. यह आमतौर पर किया जाता है यदि रोगी की स्थिति लगातार बिगड़ती है।

चोट और बीमारियाँ जिन्हें आईसीयू में विशेष उपचार की आवश्यकता होती है इस प्रकार है

गंभीर दिल की समस्याएं जैसे दिल का दौरा, अत्यधिक निम्न रक्तचाप का होना।

अस्थमा या जटिल निमोनिया के कारण श्वसन प्रणाली में समस्या, का होना।

दुर्घटना के मामलों में बड़ी सर्जरी और तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता होती है।

जो मरीज कोमा में है उनके लिए।

एक बड़ी सर्जरी के बाद।

जिगर की समस्याएं और गुर्दे की विफलता के मामले जिन्हें डायलिसिस की आवश्यकता होती है।

किसी Patient को ICU में रखने का मुख्य कारण?
यह हम सभी के लिए जानना बहुत ही जरूरी है, कि एक मरीज को ICU में आखिर क्यों रखा जाता है. इसके बारे में हमने अभी आपको ऊपर भी बताया है, कि ICU में सिर्फ उन्हीं व्यक्तियों को रखा जाता है या फिर जिनकी हालत बहुत ज्यादा नाजुक होती है और उनको बचा पाना काफी मुश्किल लग रहा होता है. डॉक्टरों की टीम उन्हें अपने अच्छे Maintenance में रखने की कोशिश करती है, और इसीलिए अस्पताल में 1 Ward होता है, जिसका नाम होता है ICU और इस Ward में बहुत ही अच्छी तरीके से patient की care की जाती है जिनमे patient को सारी सुविधाएं दी जाती है. जिससे उसकी स्वास्थ्य में जल्द से जल्द सुधार आ सके, तो दोस्तों आइए अब हम जानते हैं किस किस समय पर किसी व्यक्ति को ICU की जरूरत पड़ती है।

किसी व्यक्ति को दिल का दौरा आ जाने पर भी उसे ICU में रखा जाता है, और उसकी अच्छे से देखभाल की जाती है।

जब किसी व्यक्ति की kidney fail हो जाए या ऐसी कोई गंभीर समस्या हो जाए जिसमें उसका महत्वपूर्ण शरीर के अंग काम ना करें तो भी उसे कई बार ICU में रखने की जरूरत पड़ती है।

जब किसी व्यक्ति का बहुत ज्यादा बढ़ा accident हो जाता है, जिसके कारण उसका रक्त बहुत ज्यादा निकल जाता है या बह जाता है और उसकी चोट बहुत ज्यादा खतरनाक है, तो उसे ICU में रखा जाता है।

जब कोई बच्चा पैदा होता है, और वह किसी गंभीर बीमारी का शिकार हो जाता है, या फिर वह असामयिक हो तो उसे बाहरी वातावरण से बचाने के लिए एवं उसके अच्छे से देखभाल करने के लिए उसे ICU में रखा जाता है।

दोस्तों जब किसी भी व्यक्ति की कोई बड़ी सर्जरी होती है, और उसके बाद उसे कुछ देर देखभाल की आवश्यकता है तो ऐसे में अक्सर doctors कई बार patient को ICU में रखते हैं।

आईसीयू में किसकी देखभाल की जाती है?
मरीजों की सर्जरी के बाद एक योजनाबद्ध प्रवेश हो सकता है, एक दुर्घटना के बाद एक अप्रत्याशित प्रवेश या उनके स्वास्थ्य के लिए अचानक और गंभीर गिरावट के कारण भर्ती कराया जा सकता है।

आईसीयू की टीमें बहु-अनुशासनात्मक हैं, जो अत्यधिक कुशल गहन देखभाल नर्सों से बनी हैं, जो डॉक्टरों और विशेषज्ञों को विभिन्न प्रकार के चिकित्सा, शल्य चिकित्सा और आघात की स्थिति वाले रोगियों के लिए महत्वपूर्ण देखभाल प्रदान करने के लिए प्रशिक्षित करती हैं।

कुछ अस्पताल आईसीयू विशेष स्वास्थ्य स्थितियों या चोटों की देखभाल करने में विशेषज्ञ हैं:

Complex Spinal Surgery

Respiratory Failure

Major Trauma

Severe Burns

Cardiothoracic Surgery.




टिप्पणी पोस्ट करा

Previous Post Next Post